राजगीर (नालंदा) : तीन हजार किलोमीटर का पदयात्रा करते हुए 85 जैन संतों एवं साध्वियों का विशाल संघ गुरुवार को राजगीर पहुंचा. विशाल संघ में जैन संतों के अलावा 150 श्रावक भी शामिल हैं. जैन संत परम पूज्य गणाचार्य श्री 108 विराग सागर जी महाराज के सान्निध्य में यह पद यात्रा 27 फरवरी को दिल्ली से शुरू होकर हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार के अनेक तीर्थों की पदयात्रा करते हुए राजगीर पहुंचे. राजगीर पहुंचने पर जैन समाज श्रद्धालुओं के द्वारा इनका भव्य स्वागत किया.

यहां पहुंचने के उपरांत मुनियों के इस विशाल संघ ने उदयगिरि पर्वत पर अवस्थित भगवान महावीर स्वामी एवं स्वर्ण गिरि पर अवस्थित मुनि सुव्रत स्वामी के मंदिर में दर्शन-पूजन किये. 17 फरवरी को दिल्ली के गाजियावाद से शुरू हुई यह पदयात्रा 24 हजार 250 किलोमीटर तय करती हुई 23 जुलाई को समय शिखर जी पहुंच कर समाप्त होगी.

जैन संत परम पूज्य गणाचार्य श्री 108 विराग सागर जी महाराज

वहां 28 जुलाई से विराग सागर जी महाराज को चतुमार्श शुरू होगा. राजगीर के विपुलागिरि पर्वत पर शुक्रवार को कई जैन श्रावक लोग गृहस्थ जीवन को त्याग कर बनेंगे संन्यासी. बताया जाता है कि यहां कभी भगवान महावीर  के सान्निध्य में कई लोगों ने गृहस्थ जीवन को त्याग कर संन्यास जीवन को ग्रहण किया था. ठीक उसी तरह शुक्रवार को जैन संत विराग सागर जी महाराज के सान्निध्य में दर्जनों जैन श्रावक लोग गृहस्थ जीवन को त्याग कर संन्यास जीवन को ग्रहण करेंगे !

JainNewsViews सभी साधु साध्वीजी एवं नूतन दीक्षार्थी के चरणों में वंदन करता है

Sourced from PrabhatKhabar & Jain24


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *