in

जैनिज्म फिलाटेली ग्रुप का राष्ट्रीय सम्मेलन और डाक टिकट प्रदर्शनी गोमटपेक्स-2018 संपन्न

जैनिज्म फिलाटेली ग्रुप का राष्ट्रीय सम्मेलन और डाक टिकट प्रदर्शनी गोमटपेक्स-2018 संपन्न
जैनिज्म फिलाटेली ग्रुप का राष्ट्रीय सम्मेलन और डाक टिकट प्रदर्शनी गोमटपेक्स-2018 संपन्न

विश्व विख्यात ऐतिहासिक जैन तीर्थ श्रवणबेलगोला (कर्नाटक) में जैनिज्म फिलाटेली ग्रुप का तीसरा राष्ट्रीय सम्मेलन और जैन धर्म संबंधित डाक टिकटों की नेशनल प्रदर्शनी गोमटपेक्स-2018 का सफल आयोजन 7 से 9 अप्रेल 2018 तक सम्पन्न हुआ।

दोनों समारोहों का उद्घाटन परम पूज्य स्वस्तिश्री भट्टारक चारुकीर्ति स्वामी जी ने किया।

जैन धर्म से जुडी ताज़ा खबर पाने हमे  LIKE करे फेसबुक पर

Facebook By Weblizar Powered By Weblizar

राष्ट्रीय सम्मेलन की अध्यक्षता जैनिज्म फिलाटेली ग्रुप के नेशनल चेयरमेन श्री सुधीर जैन (सतना) ने की तथा प्रदर्शनी के मुख्य अतिधि कर्नाटक सर्किल के चीफ पोस्ट मास्टर जनरल डॉ. चार्ल्स लोबो रहे।

अपने उद्बोधन में भट्टारक स्वामी जी ने कहा कि भगवान बाहुबली स्वामी की मूर्ति निर्माण के हजार वर्ष पूर्ण होने पर जब सहस्त्राभिषेक महोत्सव मनाया गया तब सन् 1981 में भारत की तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी मैं यहां आकर भगवान गोमटेश्वर की अद्भुत प्रतिमा के दर्शन करके उन पर एक विशेष बहुरंगी डाक टिकट जारी करके भगवान बाहुबली स्वामी को लोगों के दिल में बसाने का महत्वपूर्ण कार्य किया था। उन्होंने कहा कि जैनिज्म फिलाटेली ग्रुप के सदस्य जैन धर्म के सिद्धांतों का प्रचार प्रसार करते रहें, प्रदर्शनियाँ लगाते रहें, निश्चित ही उनके यश कीर्ति में वृद्धि होगी ऐसा मेरा आशीर्वाद है।
कार्यक्रम का प्रारंभ श्रीमती रश्मि जैन के मंगलाचरण के साथ हुआ। तत्पश्चात प्रदर्शनी के विशेष आवरण और भगवान बाहुबली स्वामी पर पूर्व में जारी पोस्टल सामग्री के डिजाइनर बोर्ड का अनावरण श्रद्धेय भट्टारक स्वामी जी ने किया। स्वागत भाषण श्री सुधीर जैन ने दिया तथा आभार प्रदर्शन ग्रुप के कर्नाटक प्रदेश संयोजक श्री महावीर कुन्दूर (हुबली) ने किया। राष्ट्रीय सम्मेलन में पूरे देश से लगभग 150 सदस्यों ने भाग लिया तथा 62 संग्रहकतार्ओं ने प्रदर्शनी में अपने संग्रह प्रदर्शित किये। राष्ट्रीय वाइस चेयरमेन श्री प्रमोद कुमार जैन (पांडिचेरी) एवं डा0 प्रदीप जैन (बालोद), जनरल सेक्रेटरी श्री मीठालाल जैन (पुणे), कोआर्डिनेटर श्री तेजकरन जैन (छत्तीसगढ़) एवं श्री महेन्द्र राज भंडारी (उदयपुर), इनमें प्रमुख थे।
इस अवसर पर श्री विकास जैन (अजमेर) एवं श्री प्रमोद कुमार जैन (पांडिचेरी) द्वारा लिखित पुस्तक फिलाटेली आन जैनिज्म तथा श्री सुरेश कुमार जैन (लुधियाना) द्वारा लिखित पुस्तक डाक टिकटों पर जैन इतिहास एवं संस्कृति का विमोचन हुआ। सभी सदस्यों ने प्रत्येक 12 वर्ष में होने वाले गोमटेश्वर बाहुबली के महामस्तकाभिषेक का धर्मलाभ लिया।
जैनिज्म फिलाटेली ग्रुप के राष्ट्रीय सम्मेलन के द्वितीय चरण में कर्नाटक के ही विख्यात तीर्थ धर्मस्थल में 9 अप्रेल 2018 को आयोजित समारोह में पद्मविभूषण राजर्षि डॉ. वीरेन्द्र हेगडे जी ने एक सुन्दर रंगीन बुकलेट का विमोचन किया जिसमें ग्रुप सदस्यों के तीन दिवसीय भ्रमण में शामिल कर्नाटक के दर्शनीय स्थलों श्रवणबेलगोला, हेलेबिडू, बेलूर, धर्मस्थल, वेनूर, कारकल एवं मूडबिद्री पर जारी विभिन्न फिलाटेलिक सामग्री का समावेश किया गया है। रात्रि में मूडबिद्री में आयोजित विशेष कार्यक्रम में वहां के पूज्य भट्टारक जी ने सभी सदस्यों का सम्मान किया और दुर्लभ अमूल्य रत्न प्रतिमाओं एवं जैन शास्त्रों की अति प्राचीन ताड़पत्रीय पांडुलिपियों का विशेष अवलोकन कराया। गोम्मतपेक्ष एग्जिÞबिशन में भाग लेने वालों को सर्टिफिकेट और मेडल से नवाजा गया। जेपीजी मीट के दौरान 25 मेंबेरो को मोमेंटो, शॉल, माला, पगड़ी से उल्लेखनीय कार्यों के लिए नवाजा गया।


Also published on Medium.

What do you think?

0 points
Upvote Downvote

Total votes: 0

Upvotes: 0

Upvotes percentage: 0.000000%

Downvotes: 0

Downvotes percentage: 0.000000%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Jain Idols found in Nagarjuna Caves in Maharashtra

Jain Idols found in Nagarjuna Caves in Maharashtra

Why Varshitap is an important ritual for Jains

Why Varshitap is an important ritual for Jains?