in

अतिप्राचीन जैन प्रतिमा प्राप्त हुई !

Ancient Jainism | अतिप्राचीन जैन धर्म
Ancient Jainism | अतिप्राचीन जैन धर्म

चाचौड़ा शुभोदय तीर्थक्षेत्र, बीनागंज (जिला-गुना, म.प्र.) में खुदाई में भूगर्भ से अतिप्राचीन जैन प्रतिमा प्राप्त हुई !

 

अतिप्राचीन जैन प्रतिमा प्राप्त हुई Ancient Jain Idol found in Madhya Pradesh

 

चाचौड़ा शुभोदय तीर्थक्षेत्र, बीनागंज (जिला-गुना, म.प्र.) में खुदाई में भूगर्भ से अतिप्राचीन जैन प्रतिमा प्राप्त होने से हर्ष.
इसी तीर्थक्षेत्र से पूर्व समय मे भी जिन प्रतिमाएं प्राप्त हुई है। यहाँ भव्य जिनालय निर्मित हो रहा है।
प्राप्त प्रतिमा पर कोई प्रशस्ति या चिह्न नहीं है यह उसी जगह निकली है जहाँ पहले भी अनेक विशाल जैन प्रतिमाएँ निकल चुकी।
संभवतया यह प्रतिमा कुषाणकालीन है। इस प्रतिमा में संभवतया तीन तीर्थंकर भगवान शांतिनाथ, कुंथुनाथ व अरहनाथ जी है और प्रतिमा एक पट्ट के सहारे उत्कीर्ण है।
We have made a short video regarding the same! Do watch it & share this ! हमने एक छोटा सा वीडियो बनाया है ! इससे अवश्य देखे और शेयर करे !

What do you think?

48 points
Upvote Downvote

Total votes: 0

Upvotes: 0

Upvotes percentage: 0.000000%

Downvotes: 0

Downvotes percentage: 0.000000%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Krishna is the Next Tirthankar as per Jainism

Krishna is the Next Tirthankar !

Tarun Sagarji Maharaj speaks on Major Topics that are concerning Jainism

Who is a Jain Sadhu? | एक जैन साधु कौन होता है ?